बठिण्डा

नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड,
सिबियन रोड, भटिंडा,पंजाब- 151003,
Tel :0164- 2270261,2760262
Fax :0164- 2760270
Email : इस ईमेल पते को संरक्षित किया जा रहा है स्पैम बॉट से ! आपको यह देखने के लिए जावास्क्रिप्ट सक्रिय होना चहिये




शहर के बारे में

बठिण्डा, पंजाब में जिला मालवा क्षेत्र के मध्‍य में स्थित पंजाब का सबसे पुराना और पंजाब का नौवां सबसे बड़ा जिला है। यह कहा जाता है कि बठिण्डा का निर्माण, 6वीं शताब्दी ईसा में पंजाब के 'भट्टी राव' के शासकों के द्वारा किया गया था और उस समय शहर को उनके उपनाम  'भट्टी विन्‍डा' के नाम से बुलाया जाता था और अब इसे बठिण्डा के रूप में कहा जाता है। जिले में तीन उप डिवीजन-बठिण्डा, रामपुरा फूल और तलवंडी साबो है। शहर में अपनी पांच कृत्रिम झीलों के कारण, बठिण्डा  को "झीलों के शहर' के नाम से भी जाना जाता है। जिला, दक्षिण में हरियाणा राज्‍य के सिरसा तथा फतेहाबाद से घिरा हुआ है, पूर्व में संगरूर और मानसा जिले है, उत्तर में फरीदकोट तथा पश्चिम में मुक्तसर जिला है। बठिण्डा, कपास और कृषि उत्पादन के लिए सुप्रसिद्ध है, साथ ही गुरु नानक देव थर्मल प्‍लांट और गुरु हरगोबिंद थर्मल प्लांट, नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड उर्वरक इकाई, और एक बहुत बड़ी तेल रिफाइनरी के साथ यह औद्योगीकरण में तेजी से विकास की और अग्रसर है और इनसे शहर के आर्थिक विकास को बढ़ावा मिल रहा है। बठिण्डा रेलवे स्टेशन, भारत के सबसे बड़े रेलवे जंक्शनों में से एक है। बठिण्डा जिले की सिंचाई के लिए, सरहिंद नहर से बठिण्डा शाखा और कोटला शाखा तथा नहर के रूप में लघु शाखा नहर है। बठिण्डा के पड़ोसी जिले लुधियाना (136 कि.मी.), फरीदकोट (63 कि.मी.), चंडीगढ़ (210 कि.मी.), फिरोजपुर (103 कि.मी.) और दिल्ली (370 कि.मी.) है।
इस शहर में तीर्थ यात्रा और पर्यटन के लिए कई स्थल उपलब्‍ध है। यहां पर लखी जंगल के बीच में एक गुरुद्वारा स्थित है। पर्यटकों के द्वारा देखे जाने वाले अन्य स्थानों में, शहर के केंद्र से 6 कि.मी. की दूरी पर स्थित जूलॉजिकल गार्डन, धोबी बाजार, चेतक पार्क और पीर हाजी रतन की मजार है, जोकि बहुत ही लोकप्रिय तीर्थ स्थल है।
किला मुबारक या बठिण्डा का किला वह जगह है, जहां पर महारानी रजिया सुल्तान को बंदी बना कर रखा गया था और यह किला गुरु गोबिंद सिंह जी के साथ भी जुड़ा हुआ है। छोटी ईंटों से बनी इस संरचना को पर्यटक देख सकते हैं। बठिण्डा  में देखने लायक अन्य स्थानों में रोज गार्डन, मैसर खाना मंदिर है, जोकि बठिण्डा  और दमदमा साहिब से 29 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। एक अन्‍य स्‍थान बाहिया किला है जहां यात्री जा सकते हैं, जिसे 1930 के आस-पास बनाया गया था और अब एक हेरिटेज होटल है।
बठिण्डा को कृषि बाजार, कपास, हथकरघा बुनाई और ताप विद्युत संयंत्रों में योगदान के लिए जाना जाता है।
बठिण्डा, भारत के सबसे बड़े रेलवे जंक्शनों में से एक है और भारत के सबसे बड़े कपास और खाद्यान्न बाजार में से एक के रूप में प्रसिद्ध है। सैर सपाटे के लिए सरोवर या तालाब भी लोकप्रिय स्‍थल रहे हैं।

एन.एफ.एल. संयंत्र के बारे में

एन.एफ.एल. को बठिण्डा इकाई 1 अक्टूबर, 1979 समर्पित की गई थी, जोकि 511500 मीट्रिक टन यूरिया की वार्षिक स्थापित क्षमता के साथ एलएसएचएस/ईंधन तेल पर फीड स्टॉक की गैसीकरण तकनीक पर आधारित था। बाद में, भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार,  सबसिडी भार और कार्बन फुटप्रिंट कम करने के लिए, एन.एफ.एल. ने बठिण्डा  इकाई को एलएसएचएस/एफओ से प्राकृतिक गैस फीडस्‍टॉक में बदल कर, एलएसटीके के आधार पर इसका पुर्नोत्‍थान कर दिया और जनवरी 2013 के दौरान गैस पर वाणिज्यिक उत्पादन को शुरू किया गया।

बठिण्डा  इकाई की मुख्य विशेषताएं

संस्थापित क्षमता    
511,500 एमटीपीए
पूंजी निवेश

349.41 करोड़

उत्‍पादन की प्रारंभिक शुरूआत 1 अक्‍तूबर, 1979
पुनर्गठन के बाद गैस पर उत्पादन की शुरूआत 11 मार्च,  2013

Process

अमोनिया: एचटीएएस भाप मीथेन सुधार (एसएमआर) प्रौद्योगिकी
यूरिया: मित्सुई टोयटसु कुल रीसायकल सी में सुधार
कच्चा माल कोयला, एलएनजी/आरएलएनजी, बिजली, पानी
कैप्टिव पावर प्लांट 2 x15 मेगावाट



 

क्या नया है

Sign निदेशक मण्डल की बैठक के आयोजन के संबंध में सूचना

Sign 44 वीं वार्षिक आम बैठक, बुक क्लोज़र और रिमोट ई-वोटिंग जानकारी हेतु संशोधित सूचना

Sign 14th सितम्बर, हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में माननीय अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक का संदेश

Sign प्रैस विज्ञप्ति - 44 वीं वार्षिक आम बैठक, बुक क्लोज़र और रिमोट ई-वोटिंग जानकारी हेतु संशोधित सूचना

Signप्रैस विज्ञप्ति - एनएफएल में स्वच्छता पखवाडे का शुभारंभ 

Signआर एफ सी एल उत्पादनों के वितरण के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया जाना 

Signएन.एफ.एल का पहली तिमाही में 66% लाभ बढा 

Signप्रैस विज्ञप्ति : एन.एफ.एल. ने जीता सर्वश्रेष्ठ पीएसयू पुरस्कार 

Signप्रैस विज्ञप्ति : एन.एफ.एल. को मिला राजभाषा (हिन्दी) प्रयोग के लिए तृतीय पुरकार  

Signप्रैस विज्ञप्ति : एनएफएल द्वारा प्रायोजित पैरा एथलीटों ने राष्ट्रीय चैंपियनशिप में 6 पदक  

Signएनएफएल ने उर्वरक विभाग के साथ ज्ञापन समझौते पर हस्ताक्षर किए (2018-19) 

Signवित्‍तीय‍ परिणाम 2017-2018 

Signप्रेस नोट - एन.एफ.एल. हिन्दुस्तान पीएसयू अवार्ड 2018 से सम्मानित 

Signस्वच्छ भारत समर इंटर्न 

Signवार्षिक वित्तीय परिणाम 2017-18 का मीडिया कवरेज 

Signप्रेस नोट - एनएफएल ने 2017-18 के दौरान रु. 212.77 करोड़ का नेट लाभ अर्जित किया